Monday, February 24, 2014

मौसम

धूप फिर  छिटकने  सी लगी है ,
                                   बादलों की घटाएं भी अब कम सी दिखती हैं ,
बंद कमरों की खिड़कियां खुलने  लगी हैं
                                  ,बिस्तरों से रजाईयां सरकने लगी हैं ।
बदन भी अब हल्का सा लगने लगा है ,
                                 बोझ कपड़ों का अब कम होने लगा है ,
पक्षियों का चहचहाना भी अब बढ़ गया है,
                               क़दमों के चाल भी अब बढ़ गयी है ।
ठण्ड में जो दुबके हुए थे ,
                            अब बुजुर्ग भी वो बाहर निकल टहलने लगें हैं ।

बैठते थे धूप सेकते खाते थे मूंगफली जो ,

                            बाहर वो बैठने से कतराने लगे है
आगाज हो रहा है गर्मी के मौसन के आने का,
                            लोगों के चेहरे मुस्कुराने से लगे हैं ॥

________________________________________________________________________________

मौसम बदल रहा है ध्यान अपना सभी को रखना होगा ,
                बदलते मौसम में मौसम का मिज़ाज़ भी देखना होगा ।
कहीं बादलों का साथ छूट रहा है तो कहीं सूरज आसमान पर चढ़ रहा होगा ,
                हो न जाये तबियत नासाज़ इस बात का भी तो ख्याल रखना होगा । 


Friday, February 21, 2014

दोस्ती

बमुश्किल ही मिलते हैं दोस्त अच्छे इस दुनिया में ,

                             तेरे जैसा एक दोस्त मिल ही जाये गर इस दुनिया में ।
तेरी हर हिदायत को गांठ बनाकर बांध लेंगे आंचल में ,

                             साथ न छोड़ेंगे जब तक हम  रहेंगे इस दुनिया में ॥ 

________________________________________________________________________________


तेरे प्यार की चाहत में बेकरार हो रहे हैं ,
                                             बंद दरवाजों को खोलिए तेरे दीदार को खड़े हैं।
तेरे नूरानी  चेहरे की मुस्कुराहटों पे मर मिटे हैं ,
                                              क़दमों में फूल बिछाने को बेताब बड़े हैं ।।

_______________________________________________________________



Thursday, February 20, 2014

दर्द

पतझड़ों के मौसम में पत्तों का दर्द कोई क्या जाने,
                                                 जिस दरख्त को समझा था अपना साथ छोड़ा उसी ने है ।
फूलों का क्या है उड़ कर दरख्त से  गर गिर भी जाएँ रास्तों में
                                                , मंदिरों में चढ़ कर मंजिलें तो पा ही लेते हैं ।
जमीं दोज होकर वो पत्ते पैरो तले कुचलते-रोंदते,
                                              किसी नाले में बहते हुए पत्तों का दर्द  भला कोई क्या जाने । 


___________________________________________________________________________

चाहा था तुम्हें फिर भी अपना न सके ,
                                          तुमसे अलग मंजिल अपनी बना न सके ।
ऐसी थी क्या मजबूरी तेरी यादों के भुला न सके ,
                                         आँखों में अश्क तेरी ही  यादों के थे ,
होंठों पे थरथराहट तेरे नाम की,
                                          तुझसे अलग होकर हाय हम  जी न सके । 

Saturday, February 15, 2014

अधूरा सफर

इस शहर में आये हुए दिन चार भी न हुए थे 'आपको',
                                          बदनाम थे जिन्होंने बदनाम कर दिया है 'आपको '।
खुद की काली परछाइयों से दाग दार कर दिया है 'आपको',
                                         सादगी से आपकी डर गए वो , जिन्होंने बदनाम किया 'आपको' ।
गर 'हाथ' से मिला कर हाथ चलते तन्हा न करते 'आपको',
                                         सिक्कों की खनखनाहट से हाथ मिलाते चलते ही रहते सफर में ।
भ्रष्ट दामनों को बचाते-बचाते दाग लग गए हैं 'आपको',
                                         अपने ही शब्दो के भंवर में उलझा दिया है 'आपको'।
बन जाते कठपुतली और चलते  इशारों पर,
                                        कीचड़ में खिला ही रहने देते कमल की तरह 'आपको'। 

अधूरे सफर को कोई  मिला न किनारा 'आपको', 

                                         अब वक्त ही समझेगा कोई समझे या न समझे 'आपको'। 

चक्रव्यूह में फंसा कर ख़त्म ही कर दिया है 'आपको',
                                        दिख रहा है अब, क़दमों को कोई सहारा न देगा  'आपको'॥ 


Thursday, February 13, 2014

अच्छा लगने लगा है

नीला आसमान आज फिर से अच्छा लगने लगा है ,
                                   ऊंचाइयां छूटे परिंदे देखना फिर अच्छा लगने लगा है।
बादलों  को चीरती  उषा की किरणें देखना अच्छा लगने लगा  है ,
                                   तपती  दुपहरिया में सर चढ़ते सूरज को देखना अच्छा लगने लगा है ।
टहनियों पर बैठे चहचहाते  पक्षिओं को देखना अच्छा लगने लगा  है ,
                                   सांझ ढले चन्द्रमा की रौशनी में नहायी चांदनी को देखना अच्छा लगने लगा है ,
न कोई गम न उदासी बस यूँ ही हर किसी को निहारना अच्छा लगने लगा है ॥
                                     

Tuesday, February 11, 2014

बचपन

बहुत याद आते हैं गुजारे हुए बचपन के दिन,
                                       गली के दोस्तों संग खेलते बचपन के दिन ,
गर्मियों की छुटियाँ और नाना-नानी के घर ,
                                        आम खाते हुए बिताये वो बचपन के दिन ।
न थी दिल मे कोई चाहत न हसरत ,
                                         न था कोई गुमान, खाते-खेलते बिताये बचपन के दिन ,
गिल्ली-डंडे-गिट्टक संग  खेलते,डांट  खाते -
                                         खिलखिलाते हुए बिताये हुए वो बचपन के दिन ।
हर गली लगती एक मोहल्ले सी,
                                          घूमते -टहलते हर किसी को अपना चाचा बुलाते हुए वो दिन,
मोहल्ले बँट  गए कालोनियों में ,पार्कों में मम्मी -दादी
                                        -नानी  संग बिताता हर कोई अपना बचपन ।
नज़र अब नहीं कोई आता झूलों पर पेंगे मारता हुआ  बचपन ,
                                         बारिशों में भीगता नाव डुबाता, बचपन,
दब गया है किताबों के बोझ तले हर किसी का बचपन,
                                           आगे बढ़ने की होड़ में खोता हुआ बचपन ।
हम खुद अपने बच्चों को बना रहे है बेगाने ,
                                           रिश्तों से दूर हो रहा है आज हर किसी का बचपन ,
नज़र अब आता है ,बंद कमरों में टी वी ,कम्प्यूटर ,
                                            मोबाईल बीच बिताता हुआ हर किसी का बचपन ॥ 


Monday, February 10, 2014

बेटी की विदा

आज विदा हो रही है फिर किसी माँ की प्यारी बेटी,

                                          आँचल में मुंह छिपा रो रही बेटी । 

आंसुओं संग थपथपा कर सीख दे रही माँ ,

                                         ये घर बेगाना  हुआ तेरे लिए आज से मेरी बेटी ।
हुए हैं दो परिवार आज से एक मगर, 

                                         नहीं हुए हैं दो घर अभी एक,ये जान लेना मेरी बेटी ,
दिलों के ग़मों को आंसूंओं में बहा देना ,

                                         पर नहीं लाना दिल की उदासी चेहरे पर मेरी बेटी ।
बदल जायेगी  तेरे हर रिश्ते की तस्वीर ,

                                      किसी की बहु  किसी की हुई आज से भाभी ,
हुए घर मे अगर नन्हे-मुन्ने ,

                                   तो अभी से बन जायेगी तो उनकी भी चाची  और मामी ।
यहाँ की यहीं पर अब छोड़ जाना ,

                                    वहाँ कि ख़ुशी और गम को तुम  अपना लेना ,मेरी बेटी ,
दो घरों की इज्जत आज से तेरे ही हांथों में सौपती हूँ 

                                     ये इज्ज्त यूँ ही  बनाये रखना मेरी प्यारी बेटी । 

Saturday, February 8, 2014

मौसम

लो आज अचानक फिर मौसम ने अंगड़ाई ले ली है ,
जाते -जाते अपने अस्तित्व  का अहसास ठण्ड करा रही है ।
सूरज कहीं दूर बादलों में जा कर छिप गया है ,
हवाएं लहराती सी तन को झुरझुरी दिला रहीं हैं ।
मोटी रजाइयें लोगों के बिस्तरों में फिर से जगह बना रही हैं ,
सड़कों किनारे सोते -जागते बेबस इंसानों को कंपकपा  रही है  ।
जाते -जाते अपने अस्तित्व के होने का अहसास ठण्ड करा रही  है ,
देखो तो जरा  फिर एक बार तन पर कपड़ों का बोझ लद  गया है ।
अदरक वाली  चाय फिर एक बार  फिर से प्यालों में छन रही है ,
बसंत के बाद भी ठण्ड में ठिठुरने को मजबूर ठण्ड  कर रही है ॥ 




Friday, February 7, 2014

khavaab

है हुस्न तेरा महका-महका ,है इश्क मेरा गहराया हुआ । 

                             तेरी बाहों के साये में सनम ,क्यों दिल है मेरा घबराया हुआ ॥ 

तेरे दिल की मैं क्या जानूं ,आँखों से यूँ न इशारा करो । 

                               सांसें हैं मेरी लहराई हुई,आँखों में तुम्हें ही बसाया हुआ ॥ 

_____________________________________________________________________________

एक हसीन ख्वाब हो तुम , चाँद की चांदनी हो तुम,

                              टिमटिमाते तारों से आभा तेरी ,फूल की महक हो तुम।

आकर तेरे आगोश में खुद चहक जाते है ,

                                तुम्हारे नरम अहसास से लगता है यूँ ,

 खिड़कियों से छनकती नरम धूप हो तुम ॥

________________________________________________________________

हो एक आशियाँ ,खूबसूरत हो फूलों का नज़ारा ,जो मैं सजाऊँ तेरी तस्वीर ,आत्मा अपनी ,तो बसा लूँ

झूमरों की खनखनाहट से तेरी आवाज़ में मैं कहीं खो जाऊं ,चमन में खिले फूल तेरे चरणों में अर्पण कर दूँ ॥

________________________________________________________________________________

साथ जीते थे हम अरमानों के ,

                                   ख्वाब दिल में रोज बसाते  थे हम । 

रोज एक हो गया ये क्या सनम ,

                                   टूटते तारों की तरह टूट गए हम ,

तुम तो चाहत थे किसी और के सनम ,

                                  क्यों तेरी आगोश में आ गए हम ।। 

Tuesday, February 4, 2014

शिकवा

१. आई है क्यों बूँद पसीने  की तेरे पेशाने पे,क्या गम है जो छिपाये हो दिल के अंधेरों में ।
क्यों नहीं इजहारे गम कर देते हो सनम,हम आपके ही तो हैं सनम नही कोई बेगाने ॥ 

२.फैसले जिंदगी के जो आप खुद ही कर लेते ,यूँ ज़माने भर में आज  न हमको रुसवा करते ।
तड़पकर रह जाते हैं आपके बेरुखे अंदाज से,अश्क हैं कि आँखों से थमने का नाम ही नहीं लेते ॥ 

३. कैसे भूल जाऊँ मैं उन लम्हात को जब कुरेदा था तुमने मेरे जज्बात को।
तुम्हें तो जख्म देने की आदत सी है,हमें हैं जो सी भी नहीं पाते इन जख्मों को ॥ 

४. उजाले हमें क्यूँ रास नहीं आते ,
                                         अंधेरों में हम हैं  यूँ ही मुस्कुराते ।
होती हूँ जब आईने के सामने ,
                                         हो जाते हैं उदास दिल के कोने ।
नहीं शिकवा कोई गिला भी उनसे ,
                                        बस शिकायत है अपनी किस्मत से ॥